स्विडेंन से सात समंदर पार कर फेसबुक प्रेमी से मिलने भारत आई खूबसूरत कन्या, देहरादून डीआरडीओ के पूर्व रिसर्च फैलो पवन संग लिए 7 फेरे

स्विडेंन से सात समंदर पार कर फेसबुक प्रेमी से मिलने भारत आई खूबसूरत कन्या,  डीआरडीओ के पूर्व रिसर्च फैलो पवन संगदेहरादून लिए 7 फेरे

सोशल मीडिया का प्यार आज कल खूब देखने को मिल रहा है। ऐसे मे स्वीडन से यूपी पहुंची फेसबुक प्रेमिका ने अपने प्रेमी से भारतीय संस्कृति के अनुसार शादी रचाई। उत्तर प्रदेश के एटा जनपद के एक छोटे से कस्बे अवागढ़ के किसान परिवार में जन्में 30 साल के पवन कुमार शुक्रवार को स्वीडन की रहने वाली क्रिस्टल रेबर्ग के साथ फेरे लेकर हमेशा हमेशा के लिए एक दूसरे के हो गए. साल 2012 में एटा निवासी पवन कुमार की फेसबुक पर स्वीडन की रहने वाली क्रिस्टल रेबर्ग से दोस्ती हुई और फिर दोनों के बीच प्यार हो गया. इस दोस्ती और प्यार के बीच में दो देशों की दूरिया कभी भी आड़े नहीं आई. दरअसल, पवन कुमार पेशे से इंजीनियर हैं, जबकि क्रिस्टल रेबर्ग ने होटल, टूरिज्म एंड मार्केटिंग में स्वीडन से ही डिप्लोमा किया है. पवन कुमार बताते हैं कि आज से लगभग 10 साल पहले 2012 में हमारी फेसबुक के माध्यम से दोस्ती हुई थी. उसके बाद दोनों के बीच कुछ समय तक दोस्ती का सिलसिला चला, लेकिन कब दोस्ती ने प्यार का रूप ले लिया दोनों को पता ही नहीं चला।

वहीं दोनों के बीच घंटों बातें होने लगीं और हालात यहां तक पहुंच गए कि दोनों एक दूसरे के साथ जीने मरने की कस्मे खाने लगे. इस बीच 2018 में पवन और क्रिस्टल ने शादी करने का भी फैसला कर लिया, लेकिन शुरुआत में लड़के के परिजन राजी नहीं थे. वे इस बात को लेकर आशंकित थे कि स्वीडन की रहने वाली ईसाई धर्म की लड़की के साथ शादी कैसे हो पायेगी. वहीं अगर शादी हो भी जाएगी तो क्या ये शादी के बाद में सफल हो पाएगी? क्या एक विदेशी लड़की भारतीय परंपरा केअनुसार ढल पाएगी, लेकिन पवन कुमार के काफी समझाने बुझाने के बाद उसके परिजन विदेशी लड़की से शादी करने को तैयार हो गए.पवन कुमार बताते हैं कि फेसबुक से 2012 में हुई दोस्ती के बाद 2018 में एमटेक करने के दौरान उन्होंने शादी करने का निर्णय लिया.

दोनों के प्यार के बीच नहीं आया धर्म
पवन डीआरडीओ की देहरादून में स्थिति इंस्ट्रूमेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट इस्टैब्लिशमेंट (आईआरडीए)लैब में रिसर्च फेलो के रूप में जुलाई 2020 से सितंबर 2021 तक कार्यरत रहे.वहीं इस समय वे और उनकी पत्नी दोनों ही बेरोजगार हैं. इससे पहले क्रिस्टल स्वीडन के एक किचन स्टोर में काम करती थी. दोनों की प्लानिंग है कि पहले दोनों जॉब करेंगे और आर्थिक रूप से कुछ मजबूत होने के बाद बिजनेस करेंगे. पवन कहते हैं कि वे शादी के बाद एक अच्छा फ्यूचर बनाना चाहते हैं. वे बताते हैं कि मैं स्वीडन जाकर जॉब करना चाहता हूं. इंडिया में जॉब चाहता था, लेकिन वो नहीं हो सका. पवन बताते हैं कि क्रिस्टल से 10 साल की दोस्ती के दौरान वो छह से सात बार इंडिया आई हैं. पवन कहते हैं कि उनकी शादी पूरे हिन्दू रीति रिवाज से ही संपन्न हुई है, जिसपर क्रिस्टल को कोई ऐतराज नहीं है.

स्वीडन में ईसाई रीति रिवाज से भी करेंगे शादी
पवन कहते हैं कि शादी के बाद स्वीडन जाकर ईसाइयों के रीति रिवाज से भी वो शादी करेंगे, जिससे दोनों के धार्मिक मान्यताएं कायम रह सके और दोनों में से किसी को भी ठेस न पहुंचे. दोनों के बीच शादी के दौरान कोई धर्म परिवर्तन आदि की बात नहीं हुई है. शादी के बाद भी क्रिस्टल ईसाई और पवन हिन्दू धर्म में रहेंगे. जब उनसे पूछा गया कि दोनों की शादी में धर्म कोई बाधा तो नहीं है, तो उन्होंने कहा कि अब हम दोनों के बीच 10 साल की पुरानी दोस्ती है, दोनों इतने लंबे समय से एक दूसरे को समझते हैं. इसलिए धर्म हमारे लिए कोई बाधा नहीं है, क्योंकि असली धर्म तो मानवता है. कुल मिलाकर एटा के अवागढ़ कस्बे में हुई इस शादी की आस पास के कई गावों में खूब चर्चा हों रही है. दूल्हे के पिता गीतम सिंह भी अब इस शादी से खुश हैं और वो कहते हैं कि जिसमें उनके बेटे की खुशी है, उसमें वो भी खुश हैं साभार (#Viral Story)