तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर मुख्यमंत्री धामी ने दिल्ली में मोदी को दी बधाई अलकनंदा भागीरथी पर बनने वाली 24 जल विद्युत परियोजनाओं की होगी समीक्षा

राष्ट्र का पहरेदार सनातनी: लोकतंत्र के रक्षक और संविधान के सच्चे उपासक, युवाओं, मातृशक्ति व वरिष्ठजनों के कल्याण हेतु सदैव प्रयासरत, अंत्योदय व ग़रीब कल्याण के प्रति समर्पित विश्व के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता आदरणीय प्रधानमंत्री श्री Narendra Modi जी से भेंट कर उन्हें तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर बधाई दी एवं उनका मार्गदर्शन प्राप्त किया। इस अवसर पर उन्हें महासू देवता मंदिर की प्रतिकृति, श्री बद्रीनाथ धाम की प्रसाद सामग्री एवं शॉल भेंट की।

इस दौरान प्रधानमंत्री जी से जौनसार बावर क्षेत्र में स्थित महासू देवता मंदिर क्षेत्र को मास्टर प्लान के तहत विकसित करने हेतु चर्चा की।

वार्ता के दौरान प्रधानमंत्री जी से राज्य की विशेष भौगोलिक परिस्थितियों एवं सामरिक दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए अधिसूचित नियम 2017 की व्यवस्था को यथावत रखने का अनुरोध किया। साथ ही अलकनंदा, भागीरथी तथा सहायक नदियों में प्रस्तावित 24 जल विद्युत परियोजनाओं के संबंध में मा. सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश पर गठित विशेषज्ञ समिति-2 की अन्तिम रिपोर्ट पर जल शक्ति मंत्रालय तथा विद्युत मंत्रालय के साथ पुर्नसमीक्षा करने के लिए अनुरोध किया। 

बैठक के दौरान आदरणीय प्रधानमंत्री जी से Integrated Manufacturing Cluster खुरपिया के अनुमोदन, देहरादून-मसूरी रेल लाइन परियोजना की स्वीकृति, प्रस्तावित ज्योलिकांग -वेदांग 05 किमी, सीपू-तोला 22 किमी. और मिलम- लैपथल 30 किमी टनल परियोजनाओं की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति का अनुरोध भी किया। 

साथ ही मानसखण्ड मन्दिर माला मिशन के प्रथम चरण में 16 मंदिरों के समग्र विकास एवं मंदिर मार्गों को 02 लेन करने के लिए 01 हजार करोड़ रूपये की सहायता प्रदान करने का अनुरोध किया गया। 

प्रधानमंत्री जी से राज्य में निवेश प्रोत्साहन के लिए Multi Model Logistics Park (MMLP) तथा औद्योगिक विकास हेतु BHEL हरिद्वार से राज्य को भूमि हस्तान्तरण का अनुरोध किया।

*UP: पेपर लीक करने पर आजीवन कारावास और एक करोड़ जुर्माना, अध्यादेश को कैबिनेट की मंजूरी*

*पेपर लीक को लेकर योगी सरकार ने सख्त कदम उठाया है। मंगलवार को हुई कैबिनेट बैठक में योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश सार्वजनिक परीक्षा* *अध्यादेश 2024 लाने को मंजूरी दे दी है। इसके तहत पेपर लीक में दोषी पाए जाने पर आजीवन कारावास की सजा दी जाएगी और एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।*